Lord Shiva and Parvati Story in Hindi


एक समय कि बात है। कि (Lord Parvati Mata)माता पार्वती भगवान शिव से कहने लगी के देवों के देव महादेव, जो मनुष्य धरती पर आपकी भक्ति सच्चे मन और पूरी निष्ठा के साथ भक्ति करते हैं, फिर भी उन मनुष्य की न तो कोइ इच्छा पूर्ण होती है। और न ही ना वो अपने परिवार के साथ सुःख संतोष से रहता है।

beautiful pictures of lord shiva and parvati
beautiful pictures of lord shiva and parvati

और आप निर्धन पर दया न करके । इसके विपरीत, जो मनुष्य कुछ भी इच्छा नहीं करता है। आप उस पर अपनी कृपा बनाए रखते हैं। इतना बड़ा अन्याय क्यों होता है।महादेव मुझे इन प्रश्नो का उतर दो स्वामी मै बहुत व्यकुल हु दवे। तभी भगवान शिव माता पार्वती की यह बातें सुनकर बोले की प्रिय क्यों ना तुम्हारे इन प्रश्नों के उत्तर धरती पर ही उन मनुष्य के प्रति ही दिया जाए तो पार्वती माता महादेव का यह प्रस्ताव स्वीकार करती हैं।

god shiva parvati photos
god shiva parvati photos

और उनके साथ धरती पर जाने के लिए तैयार हो जाती हैं। और (Shiv Parvati) शिव पार्वती से कहने लगते हैं कि हमें पृथ्वी पर साधारण से मनुष्य के भेष में जाना होगा तो तभी शिव और शक्ति इंसानी रूप में पति-पत्नी का रूप धारण कर धरती पर एक गांव के पास जा पहुंचते है।

bholenath image
bholenath image

तभी भगवान शिव (Lord Shiva) कहने लगे की प्रिय हम गांव के अंदर ना जाकर अपना डेरा यही जमाए माता पार्वती ने कहा जैसी आपकी इच्छा स्वामी और भगवान शिव और माता पार्वती ने मिलकर अपना डेरा गांव के बाहर जमा लेते हैं। कुछ समय बाद भगवान शिव माता पार्वती से कहने लगे के प्रिय हम पृथ्वी पर एक मानव रूप धारण करके आए हैं।

shiv parvati beautiful images
shiv parvati beautiful images

तो हमें भी मानव नियम का पालन करना होगा और अब तो वैसे भी शाम हो चली है। तो मैं भोजन की सामग्री इकट्ठा कर लेकर आता हूं। इतने तुम खाना पकाने के लिए एक चूल्हे की व्यवस्था कर लेना इतना कहकर भगवान शिव वहां से चले जाते हैं।

shiv parvati images
shiv parvati images

तभी भगवान शिव के जाते ही (Lord Parvati) माता पार्वती चूल्हे को बनाने के लिए सामग्री गांव में इधर-उधर देखने लगती है। तभी उन्हें पास में ही एक पुराना घर नजर आता है। और वह घर कुछ जर्जर हो चुका होता है। तो माता पार्वती वहां पर जाकर चुल्ला बनाने के लिए जर्जर हो चुकी दिवलो में से ईट निकाल कर ले आई और उन्हीं ईटो से चुल्ला बनाने लगी।

shiv parvati romantic images
shiv parvati romantic images

तभी वहां पर भगवान शिव प्रकट हुए।तो माता पार्वती ने देखा के कि भगवान शिव खाना बनाने की कोई भी सामग्री अपने साथ नहीं लाए हैं। तो माता भगवान शिव से बोली कि प्रभु आप तो खाना बनाने की कोई भी सामग्री नहीं लाए हैं।तो खाना कैसे बनेगा तो भगवान शिव कहने लगे कि प्रिय तुम्हें अब सामग्री की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी। तभी माता पार्वती बोली कि क्यों भगवान, तभी भगवान शिव ने माता पार्वती से पूछा के यह चूल्हा बनाने के लिए तुम ईट कहां से लाएं तभी माता पार्वती ने भगवान शिव से कहा कि प्रभु पास में ही एक बहुत बेकार घर जिसकी जर्जर दीवार हो रही थी। तो मैं वहीं से ईंटे निकाल कर ले आई।तभी भगवान शिव ने माता पार्वती से कहा कि जो घर पहले से ही खराब था। तुम प्रिय उन्हीं घर की दीवालो से ईट क्यों निकाल कर लाई और तुम उन घरों से भी तो ईट लेकर आ सकती थी।

lord shiva images free download
lord shiva images free download

जो घर बिल्कुल सही थे। तभी माता पार्वती बोली प्रभु मैं उन घरों से ईट इसलिए नहीं लाई क्योंकि उन घरों में रहने वाले लोगों ने अपने घर का रख रखाव बहुत ही सुंदर और सही तरीके से किया है। और अगर मैं उन घर से ईट लेकर आती तो उन घरों की सुंदरता नष्ट हो जाती है। और उन घर की सुंदरता बिगड़ना उचित नहीं समझा मैंने प्रभु तभी भगवान शिव माता पार्वती से बोले की प्रिये यही तुम्हारे द्वारा पूछे गए उन प्रश्नों के उत्तर है।

lord shiva photos hd
lord shiva photos hd

जिन मनुष्यों ने अपने घरों का रखरखाव अच्छे तरीके से किया है मतलब अपने कर्म से अपने जीवन को सुंदर बना रखा है तो उन लोगों को दुख कैसे हो सकता है और जिन मनुष्यों ने अपने कर्मों के कारण अपने घरों और अपने परिवार के साथ दुख भोग रहे हैं वह उनके कर्मों के कारण हैं इसीलिए मनुष्य ही अपने जीवन का दाता होता है अगर वह अच्छे कर्म करेगा तो सुख शांति प्राप्त करता है और वह अपने कर्मों द्वारा ही दुख को प्राप्त करता है इसलिए पृथ्वी पर हर उस व्यक्ति को अपना कर्म निष्ठा पूर्वक करना चाहिए जिससे आप अपने सपनों की इमारतों को कितना भी ऊचा रखे पर उनकी नींव मजबूत हो कि कोई आपकी उस इमारत की ईटों को ना निकाल पाए।

इन्हे पड़ना ना भूले-:

राधा कृष्‍ण की प्रेम कहानी


Source link

Leave a Reply

CommentLuv badge